राजस्थान प्री-वेटरनरी टेस्ट-आरपीवीटी की अंतिम तिथि 30-जून तक बढ़ाई गई

ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 30-जून

राजस्थान प्री-वेटरनरी टेस्ट-आरपीवीटी की अंतिम तिथि 30-जून तक बढ़ाई गई

राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ वेटरनरी एंड एनिमल साइंसेज, बीकानेर

राजस्थान प्री-वेटरनरी टेस्ट-आरपीवीटी हेतु ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 30-जून तक बढ़ाई गई
 
जयपुर, बीकानेर एवं उदयपुर केंद्रों पर होगा आयोजन

कोटा। राजस्थान प्री-वेटरनरी टेस्ट आरपीवीटी-2021 हेतु ऑनलाइन-आवेदन की अंतिम तिथि 30-जून तक बढ़ा दी गई है। इस संबंध में एक नोटिफिकेशन यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट पर गत 20-मई को जारी किया गया। एक्सपर्ट देव शर्मा ने बताया कि जारी किए गए नोटिफिकेशन के अनुसार विद्यार्थी बिना किसी विलंब-शुल्क के आगामी 30-जून तक तथा विलंब-शुल्क के साथ आगामी 7-जुलाई तक प्रवेश परीक्षा आरपीवीटी-2021 के लिए ऑनलाइन-आवेदन कर सकते हैं। देव शर्मा ने बताया कि आरपीवीटी-2021 के आयोजन की तिथि में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। पूर्व जारी सूचना के अनुसार इसका आयोजन आगामी 8-अगस्त,रविवार को प्रातः 10-बजे से 1-बजे के मध्य ही किया जाएगा। देव शर्मा ने बताया कि राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ वेटरिनरी एंड एनिमल साइंसेज, बीकानेर द्वारा यूनिवर्सिटी तथा यूनिवर्सिटी से संबद्ध संस्थानों के बैचलर ऑफ वेटरनरी साइंस एंड एनिमल हसबेंडरी (बीवीएससी एंड एएच) पाठ्यक्रम में प्रवेश हेतु आयोजित की जाने वाली इस प्रवेश परीक्षा हेतु आवेदन शुल्क ₹3000/- मात्र है जिसे नेट बैंकिंग/क्रेडिट कार्ड/डेबिट कार्ड द्वारा अदा किया जा सकता है। विलंब-शुल्क के साथ आवेदन की फीस ₹6000 निर्धारित की गई है। आवेदन एवं परीक्षा शुल्क में महिला अभ्यर्थियों तथा कैटेगरी विद्यार्थियों के लिए कोई छूट नहीं दी गई है।

आरपीवीटी के लिए अपर एज-लिमिट 25-वर्ष...

 देव शर्मा ने बताया कि आरपीवीटी-2021 प्रवेश-परीक्षा हेतु विद्यार्थी की आयु 31-दिसंबर-2020 तक 17-वर्ष से कम तथा 25-वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। अपर-एज लिमिट में कैटेगरी विद्यार्थियों हेतु 5-वर्ष की छूट दी गई है। सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों हेतु अपर-एज लिमिट 25-वर्ष है।
देव शर्मा ने स्पष्ट किया कि वर्ष-2020 में भी आरपीवीटी प्रवेश-परीक्षा हेतु इस प्रकार की एज-लिमिट निर्धारित की गई थी हालांकि उस समय देश की सबसे बड़ी मेडिकल प्रवेश परीक्षा "नीट-यूजी" में भाग लेने हेतु  सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार कोई अपर-एज लिमिट नहीं थी।

राजस्थान के मूल-निवासी ही पात्र

बारहवीं-कक्षा के पात्रता-प्रतिशत में अंग्रेजी भी शामिल

आरपीवीटी-2021 के लिए सिर्फ राजस्थान राज्य के मूल निवासी ही पात्र होंगे। निश्चित तौर पर इस बाध्यता से राजस्थान राज्य के विद्यार्थियों को सापेक्ष तौर पर बेहतर अवसर प्राप्त होंगे। देव शर्मा ने बताया कि "आरपीवीटी-2021" में भाग लेने हेतु बारहवीं-बोर्ड में फिजिक्स, केमिस्ट्री,बायोलॉजी तथा अंग्रेजी विषय में कुल मिलाकर सामान्य तथा ईडब्ल्यूएस-वर्ग के विद्यार्थियों हेतु 50% या उससे अधिक अंक होना आवश्यक है। जबकि आरक्षित वर्ग के विद्यार्थियों हेतु यह प्रतिशत 47.5% है। देव शर्मा ने बताया कि कोविड-19 के कारण उत्पन्न आपात हालातों के चलते राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित की जाने वाली जेईई-मेन तथा एडवांस्ड परीक्षा हेतु 12वीं बोर्ड के प्रतिशत की बाध्यता को वर्ष-2021 के लिए समाप्त कर दिया गया है। ऐसे में राज्य स्तर पर आयोजित की जाने वाली आरपीवीटी-2021 परीक्षा हेतु 12वीं बोर्ड की प्रतिशत-बाध्यता का लागू किया जाना अतार्किक महसूस होता है।