सीएम अशोक गहलोत ने एक बार फिर की पीएम नरेंद्र मोदी से निशुल्क कोरोना टीकाकरण की घोषणा की मांग 

सीएम अशोक गहलोत ने एक बार फिर की पीएम नरेंद्र मोदी से निशुल्क कोरोना टीकाकरण की घोषणा की मांग 

जयपुर : देश भर में आज से 18 वर्ष से ऊपर की आयु के युवाओं को भी कोरोना वैक्सीन का डोज लगाना शुरू हो गया है , इस बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से निशुल्क और कोरोना टीकाकरण की घोषणा करने की मांग की है 
 मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि अमेरिका जैसे पूंजीपति देश ने भी अमीरों सहित सभी को निशुल्क वैक्सीन उपलब्ध करवाई है , जिससे टीकाकरण अभियान की सफलता सुनिश्चित हो जाती है , मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से निवेदन करता हूं कि भारत में भी कोरोना के निशुल्क टीकाकरण करने की घोषणा करें , जिससे सभी को टीका लग सके , उन्होंने कहा कि हमारे देश में  बचपन से लेकर बड़े होने तक BCG, पोलियो (IPV और OPV), हेपिटाइटिस बी, पेंटावेलेंट, रोटावाइरस, मीजल्स, रूबेला, जापानी बुखार, DPT, टिटनेस और न्यूमोकोकल वैक्सीन समेत 12 टीके निशुल्क लगाए जाते हैं , इसी का परिणाम है कि अधिकाधिक बच्चे इन बीमारियों से सुरक्षित हो पाते हैं , इसी तरह से केंद्र सरकार को चाहिए कि वह कोरोना के टीकाकरण को लेकर भी घोषणा करते हुए देश की जनता को लाभ ,  हम आपको बता दें कि आज से देश भर में 18 से 45 वर्ष के युवाओं के भी  कोरोना का टीका लगना शुरू हो गया है , हालांकि केंद्र सरकार द्वारा अभी इस टीके को निशुल्क देने की घोषणा नहीं किए, लेकिन प्रदेश की गहलोत सरकार पहले ही निशुल्क टीकाकरण की घोषणा कर चुकी है जिसको लेकर सरकार को अतिरिक्त 3000 करोड़ का भार आएगा प्रदेश की माली हालत को देखते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूर्व में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोरोना वैक्सीन निशुल्क उपलब्ध कराने की मांग की थी और आज एक बार फिर टीकाकरण अभियान की शुरुआत से पूर्व सीएम गहलोत ने पीएम नरेंद्र मोदी से टीकाकरण निशुल्क घोषणा करने की अपील की है ।

आम जनता से सीएम गहलोत की अपील - 
 मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आम जनता से एक बार फिर अपील की , सीएम गहलोत ने कहा कोरोना की इस भयावह दूसरी वेव के दौरान जिन लोगों की शादियां हैं उनसे अपील है कि फिलहाल अपनी शादी टाल दें। अभी शादी में खुशियों से अधिक कोविड की चिन्ता लगी रहेगी। इस महामारी पर विजय पाने के लिए कोविड संक्रमण की चैन को तोड़ना जरूरी है जो शादी में आने वाली भीड़ से संभव नहीं होगा।